खुद की पहचान बनाने का मौका है प्रज्ञश्री संघ

27 Mar 2017

27 फरवरी को इंदौर में अ.भा.प्रज्ञश्री संघ का एक दिवसीय अधिवेशन एवं शपथ विधि समारोह पुष्पगिरि ऑडिटोरियम अभय प्रशाल मेें आयोजित किया गया। इस अवसर पर आचार्य श्री 108 पुष्पदंतसागर जी महाराज ने बताया कि प्रज्ञश्री संघ अहंकार का प्रदर्शन और समाज का विघटन नहीं है, बल्कि एक ऐसी सोच है, जिसका सृजन एक व्यापक उद्देश्य के साथ किया गया है। प्रज्ञश्री संघ एक व्यापक उद्देश्य के साथ आपके सामने है। जिसमें आप अपनी श्रद्धा भक्ति, समाज सेवा, मानव सेवा को पुन: परिभाषित करवा पाएंगे। हमारा उद्देश्य है कि हम सामाजिक एकता और विश्व मैत्री के भाव को जागृत करें, कॅरियर के साथ करेक्टर को, श्रद्धा के साथ सेवा भाव को जागृत करें। प्रज्ञश्री संघ एक मौका खुद की पहचान बनाने का है…

श्रीफल न्यूज़

आज का सुविचार

” कुछ हँस के बोल दिया करो,
कुछ हँस के टाल दिया करो ।
यूँ तो बहुत परेशानियाँ हैं तुमको भी मुझको भी,
मगर कुछ फैसले वक्त पे डाल दिया करो ।
न जाने कल कोई हँसाने वाला मिले न मिले,
इसलिये आज ही
हसरत निकाल लिया करो “.

भगवान महावीर का समवशरण कितने योजन

आज के विजेता सभी प्रश्न

किसके अतिशय के कारण समवशरण में सभी अंतर्मुहूर्त में सीढ़ियाँ चढ़ जाते हैं?

Answer- केवली के अतिशय के कारण

विजेता का नाम : अंकिता दोषी धरियावाद

© 2017 ShreephalNews.com. All Rights Reserved.

Design & Developed by Yeah InfoTech.