धर्म और कलम का हुआ अभूतपूर्व संगम, देश के 6 पत्रकार सम्मानित

Sept 23, 2017

-श्रीफल महोत्सव के दूसरे दिन श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कारों का हुआ वितरण
-समर्पित पत्रकारिता के लिए देश के छह पत्रकारों को किया सम्मानित

बैंगलुरू। पत्रकारिता के क्षेत्र में विशिष्ट कार्य एवं समर्पित योगदान के लिए देश के कलम के धनी छह पत्रकारों को रविवार को श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार से सम्मानित किया गया। कर्नाटका जैन भवन में हुए एक भव्य समारोह में नवें श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार वितरित किए गए। इस अवसर पर देश भर से आए भक्तों एवं पत्रकारों को पुष्पगिरि प्रणेता आचार्य श्री पुष्पदंत सागर महाराज, मुनि श्री प्रमुख सागर महाराज, मुनि श्री पूज्य सागर महाराज का सान्निध्य मिला।
प्रसार भारती के सलाहकार संपादक राहुल महाजन को राजस्थान पत्रिका के संस्थापक कर्पूरचंद्र कुलिश की स्मृति में दिए जाने श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार से त्यागी सेवा समिति के डी. सुरेंद्र हेगड़े ने, भगवान बाहुबली स्मृति श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार से अमित वाजपेयी (स्थानीय संपादक, राजस्थान पत्रिका, जयपुर संस्करण) को धार्मिक श्रीफल परिवार के दिनेश खोड़निया सागवाड़ा ने, अतुल्य सागर स्मृति श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार से पद्मराज दंडावती (कार्यकारी संपादक, प्रजावाणी, दैनिक पत्र, बैंगलुरू) को नरेंद्र शाह, प्रेरणा शाह सागवाड़ा ने, अभिनंदन सागर श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार से विजय जैन (डिप्टी न्यूज एडिटर, अमर उजाला) को मुनीश जैन दूदू, राजेंद्र कोठारी, जयंति डागरिया, रोशन चित्तौड़ा ने, चारूकीर्ति भट्टारक स्मृति श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार से जनसत्ता के राजस्थान ब्यूरो हेड राजीव जैन को राजेश शाह सुंदर चित्तौड़ा ने सम्मानित किया गया। इन छह पत्रकारों को 21-21 हजार रुपए की पुुरस्कार राशि, स्मृति चिह्न, अभिनंदन पत्र, दुपट्टा पहनाकर सम्मान किया। इस दौरान सभी को मुनि पूज्य सागर ने रजत प्रतीक देकर सम्मानित किया।
इसके अलावा श्रीफल सर्वश्रेष्ठ परिवार पुरस्कार से अनिल दोसी तलवाड़ा, सुशीला बज परिवार एवं श्रीफल सर्वश्रेष्ठ युवा पुरस्कार से बबीता सरावगी को सम्मानित किया गया। इससे पूर्व मंगलाचरण एवं दीप प्रज्ज्वलन से कार्यक्रम की शुरुआत हुई। इस अवसर पर विमलसागर महाराज की तस्वीर का अनावरण किया। कार्यक्रम में कर्नाटका जैन एसोसिएशन के अध्यक्ष ए. जितेंद्र कुमार भी मौजूद रहे।

——
संस्कृति महोत्सव के लोगो का विमोचन
धार्मिक श्रीफल परिवार ट्रस्ट की युवा वर्ग एवं खासकर बच्चों में संस्कारों का बीजारोपण करने के लिए संस्कृति महोत्सव मनाने की योजना है। इसके लोगो का अनावरण मुनि पूज्य सागर महाराज ने देशभर से आए भक्तों के बीच किया। देश के 50 शहरों में संस्कृति महोत्सव को लेकर कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे, जिसकेमाध्यम से भारतीय संस्कृति की महत्वता का दर्शन कराया जाएगा।

——
सद्गुणी हर तरह से श्रेष्ठ
कार्यक्रम में आचार्य पुष्पदंत सागर महाराज ने कहा कि अशिक्षित को शिक्षित, दुखी को सुखी बनाने की बजाय दुर्गणी को सद्गुणी बनाने पर काम किया जाना चाहिए। सद्गुणी व्यक्ति में अहंकार की भावना नहीं होती। अशिक्षित व्यक्ति शिक्षित बनकर अहंकारी हो सकता है लेकिन सद्गुणी व्यक्ति नहीं। सद्गुणी हर तरह से श्रेष्ठ है, उसमें मानवीय संवेदना होती है। मुनि पूज्य सागर महाराज ने कहा कि धार्मिक श्रीफल परिवार हर क्षेत्र में कार्य कर रहा है। पत्रकारों को दिया जाने वाला पुरस्कार भी इसी श्रेणी का हिस्सा है।
——

इनका भी हुआ सम्मान
कार्यक्रम में अनिल दोसी, नरेंद्र शाह सागवाड़ा, कोमल जैन, सोमचंद जैन, इंद्र-इंद्राणियों में निहालचंद पांड्या परिवार, पद्माप्रसाद जैन-जयश्री जैन, भेरूलाल गंगलाल परिवार, तेजराज-मैना देवी बाकलीवाल, बंसतीलाल-शशिप्रभा पाटनी बैंगलुरू, प्रकाशचंद्र-सपना जैन इंदौर, किशोर जैन-सिंपी जैन सीकर, चैनरूप-शारदा बगड़ा गुवाहाटी, माया सेठी परिवार, विकास जैन-शालू जैन बैंगलुरू, शांतिलाल टोंग्या परिवार, अशोक कुमार-सुधा जैन का सम्मान किया गया।

श्रीफल न्यूज़

आज का सुविचार

” कुछ हँस के बोल दिया करो,
कुछ हँस के टाल दिया करो ।
यूँ तो बहुत परेशानियाँ हैं तुमको भी मुझको भी,
मगर कुछ फैसले वक्त पे डाल दिया करो ।
न जाने कल कोई हँसाने वाला मिले न मिले,
इसलिये आज ही
हसरत निकाल लिया करो “.

भगवान महावीर का समवशरण कितने योजन

आज के विजेता सभी प्रश्न

किसके अतिशय के कारण समवशरण में सभी अंतर्मुहूर्त में सीढ़ियाँ चढ़ जाते हैं?

Answer- केवली के अतिशय के कारण

विजेता का नाम : अंकिता दोषी धरियावाद

© 2017 ShreephalNews.com. All Rights Reserved.

Design & Developed by Yeah InfoTech.