श्रीफल पुरस्कार… एक नज़र में!

प्रोत्साहन… मनुक्य जीवन में एक उत्प्रेरक की तरह होता है। किसी अच्छे कार्य को करने के बाद यदि उसके लिए दो शब्द प्रोत्साहन के कोई कह दे तो कार्य के प्रति लगन बढ़ जाती है। इससे व्यक्ति की कार्यक्कमता भी बढ़ती है। अच्छे कार्यों के लिए प्रोत्साहन स्वरूप पुरस्कृत करने की परंपरा शुरु से ही चली आ रही है। यदि पुरस्कार के साथ संतों का आशीर्वाद, प्रेरणा व मार्गदर्शन भी मिल जाए तो यह पुरस्कार सार्थक हो जाता है। वर्तमान समय में अनेक पुरस्कार दिए जाते हैं सभी के प्रयोजन अलग–अलग होते हैं। श्रीफल पुरस्कार की श्रृंखला इनसे कुछ इतर है क्योंकि यहाँ प्रोत्साहन शौक नहीं एक सार्थक पहल है । युवाओं को समाज से जोड़ने की। संस्कृति का संरक्कण, संस्कारों का शंखनाद और भारतीय परंपराओं के प्रचार–प्रसार आदि उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए स्वस्ति श्री क्कुल्लक अतुल्य सागर जी महाराज ने धार्मिक श्रीफल परिवार ट्र्स्ट से पुरस्कार देने की शुरुआत की । 2009 में कुलिश जी की जन्मजयंति से प्रेरित हो श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार प्रांरभ हुआ यह सिलसिला आज तक अनवरत जारी है। प्रतिवर्क पुरस्कारों की श्रेणियाँ बढ़ती ही गई अब करीब आ श्रेणियों में पुरस्कार दिए जाते हैं। वहीं क्कुल्लक श्री भी अब दिगंबर मुनि दीक्का ले मुनि श्री पूज्य सागर जी महाराज हो गए हैं। धार्मिक श्रीफल परिवार के प्रणेता जिस प्रकार स्वयं के आत्मकल्याण की राह पर आगे बढ़ते जा रहे हैं उसी प्रकार श्रीफल पुरस्कारों के नई प्रतिभाएँ आगे आ रही हैं। धार्मिक श्रीफल परिवार का हर सदस्य अपनी पूर्ण ऊर्जा के साथ परंपरा के निर्वहन को तत्पर है जिसमें विजेता को पुरस्कार राशि, अभिनंदन पत्र, स्मृति चिन्ह, शॉंल,श्रीफल आदि उपहार स्वरुप दिया जाता है। प्रस्तुति भरत जैन (कार्यकारी अध्यक्क्य धार्मिक श्रीफल परिवार )

श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार

वर्क 2015, बांसवाड़ा
श्री प्रदीप जोशी,संपादक राजस्थान पत्रिका, सूरत(श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार)
श्री अनिल माथुर, पीडीआई राजस्थान प्रमुख, जयपुर (भगवान बाहुबली पत्रकारिता पुरस्कार)
श्री रविन्द्र जैन, संपादक अगिण्बाण, भोपाल (चारुकिर्ती पत्रकारिता पुरस्कार)
श्रीमती उपमिता वाजपेयी, दैनिक भास्कर, भोपाल (अतुल्यसागर पत्रकारिता पुरस्कार)
श्रीमती संगीता इंड़िया टीवी जयपुर
श्रीमती मोनिका मुनीक जैन झांझरी, दूदू (श्रीफल सर्वश्रेक्ट धार्मिक श्रीफल परिवार पुरस्कार)
श्री पंकज जैन, बांसवाड़ा(श्रीफल सर्वश्रेक्ट युवा पुरस्कार)

 

वर्क 2014, योगेन्द्रगिरी
श्री जिनेश जैन, राज्य संपादक छत्तीसगढ़,राजस्थान पत्रिका (श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार)
श्री अनिल लोढ़ा, जयपुर, ए–1 टीवी, सुनहरा राजस्थान (भगवान बाहुबली पत्रकारिता पुरस्कार)
श्री वीरेन्द्र परिहार, दूरदर्शन जयपुर (अतुल्यसागर पत्रकारिता पुरस्कार)
श्रीमती आकांक्का पाटनी इंदौर, कार्यकारी संपादक श्रीफल पत्रिका(चारूकीर्ति जैन पत्रकारिता पुरस्कार)
श्रीमान प्रदुम्न सरिता बाकलीवाल ,जयपुर (श्रीफल सर्वश्रेक्ट धार्मिक परिवार पुरस्कार)
सुश्री भक्ति सारगिया , बांसवाड़ा (श्रीफल सर्वश्रेक्ट युवा पुरस्कार)

 

वर्क 2013, ईडर
श्री अरूण चौहान, इंदौर – म.प्र राज्य संपादक, पत्रिका (श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार)
श्री नारायण बारे , जयपुर – द एशियन एज (भगवान बाहुबली पत्रकारिता पुरस्कार)
श्री हिमांशु व्यास, जयपुर -हिंदुस्तान टाइम्स, जयपुर के फोटो पत्रकार (अतुल्यसागर पत्रकारिता पुरस्कार)
श्री कपूर चंद जी पाटनी, गुवाहाटी, असम–संपादक जैन गजट, (चारूकीर्ति जैन पत्रकारिता पुरस्कार)
श्रीमती संध्या नरेन्द्र सारा, गुवाहाटी (श्रीफल सर्वश्रेक्ट धार्मिक परिवार पुरस्कार)
सुश्री आंचल बगड़ा, मांलीगाँव, गुवाहाटी (असम) (श्रीफल सर्वश्रेक्ट युवा पुरस्कार)

 

वर्क 2012, हिम्मतनगर
श्री ज्ञानेश उपाध्याय, राजस्थान पत्रिका, जयपुर (श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार)
श्री सुदेश गौड़, संपादक– दैनिक भास्कर, गंगानगर (बाहुबली पत्रकारिता पुरस्कार)
श्री विशां शर्मा, वरिक्ट संवाददाता– ई.टीवी, जयपुर (अतुल्यसागर पत्रकारिता पुरस्कार)
श्रीमती प्रेरणा नरेन्द्र शाह, सागवाड़ा (श्रीफल सर्वश्रेक्ट धार्मिक परिवार पुरस्कार)
सुश्री अंकिता जैन , गुवाहाटी (श्रीफल सर्वश्रेक्ट युवा पुरस्कार)

 

वर्क 2011, सागवाड़ा
श्री अरविंद मोहन शर्मा, कार्यकारी संपादक, राजस्थान पत्रिका (श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार)
श्री तरूण रावल, संपादक, दैनिक भास्कर, बांसवाड़ा (बाहुबली पत्रकारिता पुरस्कार)
श्री सुधीर जैन, जिला संवाददाता, प्रात:काल, डुंगरपुर (अतुल्यसागर पत्रकारिता पुरस्कार)

 

वर्क 2010, डुंगरपुर
श्री अखिेंश शर्मा, संवाददाता– ई. टीवी डुंगरपुर (श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार)
श्री मिलन शर्मा , राजस्थान पत्रिका, संवाददाता, डुंगरपुर (अतुल्यसागर पत्रकारिता पुरस्कार)

 

वर्क 2009, ऋकभदेव तीर्थ
श्री देवराम मेहता, संवाददाता राजस्थान पत्रिका, आसपुर
श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार –श्री मयंक शर्मा (सागवाड़ा)
राजश्री मेहता , संवाददाता दैनिक भास्कर, भीलूड़ा

श्रीफल पुरस्कार समिति
मुख्य संयोजक-
संयोजक-
सदस्य

आज का सुविचार

” कुछ हँस के बोल दिया करो,
कुछ हँस के टाल दिया करो ।
यूँ तो बहुत परेशानियाँ हैं तुमको भी मुझको भी,
मगर कुछ फैसले वक्त पे डाल दिया करो ।
न जाने कल कोई हँसाने वाला मिले न मिले,
इसलिये आज ही
हसरत निकाल लिया करो “.

भगवान महावीर का समवशरण कितने योजन

आज के विजेता सभी प्रश्न

किसके अतिशय के कारण समवशरण में सभी अंतर्मुहूर्त में सीढ़ियाँ चढ़ जाते हैं?

Answer- केवली के अतिशय के कारण

विजेता का नाम : अंकिता दोषी धरियावाद

© 2017 ShreephalNews.com. All Rights Reserved.

Design & Developed by Yeah InfoTech.