सफर…एक बालक के धर्मपूंज बनने का!

भीड़ से अलग दिखने की चाह में हमेशा कुछ नया करने की कोशिश करने वाला बालक… अपने जीवन के अलहड़ पन को पीछे छोड़ कब धीर-गंभीर, सौम्य और वीतरागी दिगंबरत्व को धारण कर मुनि बन गया पता ही नहीं चला। एक साधारण बालक के धर्मपूंज बन पूज्य बनने का यह सफर प्रेरणादायी है।…

आज का सुविचार

” कुछ हँस के बोल दिया करो,
कुछ हँस के टाल दिया करो ।
यूँ तो बहुत परेशानियाँ हैं तुमको भी मुझको भी,
मगर कुछ फैसले वक्त पे डाल दिया करो ।
न जाने कल कोई हँसाने वाला मिले न मिले,
इसलिये आज ही
हसरत निकाल लिया करो “.

भगवान महावीर का समवशरण कितने योजन

आज के विजेता सभी प्रश्न

किसके अतिशय के कारण समवशरण में सभी अंतर्मुहूर्त में सीढ़ियाँ चढ़ जाते हैं?

Answer- केवली के अतिशय के कारण

विजेता का नाम : अंकिता दोषी धरियावाद

© 2017 ShreephalNews.com. All Rights Reserved.

Design & Developed by Yeah InfoTech.