क्यों रखते हैं ‘उपवास’

मन को निर्विकार बनाने की राह में देह को भी निर्विकार बनाना आवश्यक है और उपवास यही काम करता है। जब साधु या श्रावक इंद्रियों के आवेगों पर विजय प्राप्त करता है, तब वह स्वयं या आत्मा की ओर प्रवृत्त होता है और साधना-समाधि के अपने परम लक्ष्य के और नजदीक…

धर्मात्माओं के साथ वाद विवाद क्यों करता है व्यक्ति ?

जो पुरुष पूर्व जन्म में देव,धर्म,गुरु का अपमान करते है अथवा पूर्व जन्म के संस्कारों के निमित्त से गुरुओं पर क्रोध करते हैं । उनके साथ विवाद करते हैं ऎसे मनुष्य मरकर अन्य जन्म मे जाकर वहाँ धर्म में व धर्मात्माओं के वाद विवाद किया करते हैं । मुनि श्री…