आलेख

पर्युषण पर्वः आत्मचिंतन, आत्मशोधन का पर्व – अन्तर्मुखी मुनि पूज्य सागर महाराज

पर्युषण पर्व जैन समाज में सबसे महत्वपूर्ण पर्व है। इसका शाब्दिक अर्थ है- परि+उषण, परि यानी चारों तरफ से और उष्ण का मतलब बुरे कर्मों/विचारों का नाश करना है। इस त्योहार की मुख्य बातें भगवान महावीर स्वामी के मूल पांच सिद्धांतों पर आधारित हैं। अहिंसा यानी किसी को कष्ट ना पहुंचाना, सत्य, अस्तेय यानी चोरी ना करना, ब्रह्मचर्य और अपरिग्रह यानी जरूरत से ज्यादा धन एकत्रित ना करना।

दसलक्षण पर्व प्रकृति और पर्यावरण से जुड़ा हुआ है। मानसून के दौरान मनाया जाने वाला यह त्योहार पूरे समाज को प्रकृति से जुड़ने का सीख भी देता है। इसे धर्म से इसलिए जोड़ा गया है क्योंकि जो भी सकारात्मक कार्य होता है, वह आखिर में धर्म ही तो है। पर्यावरण असंतुलन पूरी दुनिया में आज सबसे ज्यादा चिन्ता का विषय है लेकिन प्रकृति और पर्यावरण का संतुलन तब बिगड़ता है, जब इंसान में क्रोध, अहंकार, माया, लोभ, असत्य, असंयम, स्वच्छन्दता, परिग्रह, इच्छा, वासना आदि के भाव पैदा होते हैं। इन्हीं बुरे भावों पर नियंत्रण के लिए दस धर्म पालन रूपी ब्रेक लगा दिया गया है। इसके पीछे भावना यही होती है कि प्रकृति और पर्यावरण का संतुलन बना रहे और साथ ही हम धर्म का पालन करने के साथ ध्यान भी करते रहें।

दस दिनों तक चलने के कारण इसे दसलक्षण पर्व कहा जाता है। जैन धर्म के अनुयायी क्षमा, मार्दव, आर्जव, शौच, सत्य, संयम,तप,त्याग,अकिंचन्य,ब्रह्मचर्य के माध्यम से आत्मसाधना करते हैं। यह दस धर्म जीने की कला सिखाने के साथ पापमल को धोने का काम करते हैं। श्वेताम्बर समाज आठ दिन तक पर्युषण पर्व मनाते हैं जिसे अष्टान्हिका कहते हैं। देखने में आ रहा है कि वर्तमान में लोग एक दूसरे की भावना को नहीं समझकर एक दूसरे को नीचा दिखाने में लगे हैं। आपस का प्रेम समाप्त होता जा रहा है। आत्मिक ऊर्जा समाप्त होती जा रही है। इन सबसे बचने के लिए पर्युषण पर्व इंसान के जीवन में संजीवनी का काम करने वाला है। क्षमा, मार्दव, आर्जव, शौच, सत्य,अकिंचन्य धर्म से मानसिक स्वस्थता आती है। मन और मस्तिष्क मे किसी के लिए, किसी भी प्रकार से शत्रुता, नीचा दिखाने, अप्रेक्षा के विचार नहीं रह जाते हैं और न ही किसी के प्रति वैरभाव रहता है। संयम, तप, ब्रह्मचर्य से शारीरिक स्वस्थता आती है।

जैन ग्रंथों में पर्युषण की परिभाषा देते हुए कहा गया है-‘परि समंतात् ऊषन्ते दह्यांते पापकर्माणि यस्मिन् तत् पर्यूषणम्’ अर्थात जो पापकर्मों को जलाता है, पाप क्षयकर आत्मधर्मों को उद्घाटित करता है, आत्मगुणों को प्रकट करता है उसे पर्यूषण कहते हैं। गांठ ग्रंथि- कषाय, मोह आदि रूपी गांठ को खुलने की जो कला सिखाता है, उसे पर्यूषण पर्व कहते हैं।

दस दिन के दस संकल्प भी हैं जो इस प्रकार है-मैंने जो पाप किए है, उनका प्रायश्चित करता हूं। मैं अब आगे से पाप नहीं करूंगा। विनम्र बनकर अपनी गलती को स्वीकार करूंगा। अपने दु:ख का कारण अपने कर्मों को समझूंगा वृक्ष,पृथ्वी,जल,अग्नि,वायु का उतना ही उपयोग करूंगा जितना जीने के लिए आवश्यक होगा। प्रतिदिन 5 मिनट आत्मचिंतन कर आत्मशक्ति को पहचाने का पुरुषार्थ करूंगा। प्राणी मात्र का सहयोग करूंगा। शिक्षा,स्वास्थ्य के लिए काम करूंगा आदि।

यह पर्व न केवल जैन धर्मावलम्बियों को, अपितु समूचे प्राणी-जगत को सुख-शांति का संदेश देता है। यह पर्व साल में तीन बार आता है। पहला चैत्र शुक्ल पंचमी से चौदस  तक, दूसरा भाद्र शुक्ल पंचमी से चौदस तक, तीसरा माघ शुक्ल पंचमी से चौदस तक। इस पर्व में संकल्‍प लिया जाता है कि प्रत्‍यक्ष या अप्रत्‍यक्ष रूप से जीवमात्र को कभी भी किसी प्रकार का कष्‍ट नहीं पहुंचाएंगे। किसी से कोई बैर भाव नहीं रखेंगे। संसार के समस्त प्राणियों से जाने-अनजाने में की गई गलतियों के लिए क्षमा याचना करेंगे।

Spread the love

Related posts

अक्षय तृतीया : अक्षय तृतीया से शुरू हुयी थी जैन परम्परा में दान की शुरूवात – डॉ. सुनील जैन ‘संचय’, ललितपुर

admin

जल, जंगल, जमीन हमारी अमूल्य धरोहर, इनको बचाना हमारा दायित्व

admin

धार्मिक अनुशासन के साथ पढ़ाई सर्वोत्कृष्ट – अंतर्मुखी मुनि पूज्य सागर महाराज

admin

Leave a Comment