व्यक्तित्व

स्पेस इंडस्ट्री तेजी से आगे बढ़ रही है, आगे और कई संभावनाए है। इसरो में चयनित होने से अब देश के लिए काम करने का मोका मिलेगा – युवन जैन

राजस्थान के डूंगरपुर जिले के शास्त्री काॅलाेनी निवासी 24 वर्षीय युवन जैन ने जैन समाज का गाैरव बढ़ाया।

राजस्थान के डूंगरपुर जिले के शास्त्री काॅलाेनी निवासी 24 वर्षीय युवन जैन ने जैन समाज का गाैरव बढ़ाया। पिछले दिनाें इसराे यानि इंडियन स्पेस रिसर्च अार्गेनाइजेशन में साइंटिस्ट इंजीनियर के पद पर चयन हुअा है। इसराे सेंट्रलाइज्ड रिक्रुटमेंट बाेर्ड 2019 की तरफ से जारी विज्ञप्ति के बाद युवन जैन ने इसके लिए अावेदन किया था। जनवरी 2020 काे हुई परीक्षा में शामिल हुए। हाल ही में जारी एक्जाम के रिजल्ट में पैनल पाॅजिशन में 74 नंबर पर नाम अाने से परिवार में खुशी की लहर छा गई.

युवन जैन ने कहा कि स्पेस इंडस्ट्री तेजी से अागे बढ़ रही है। अागे अाेर कई संभावनाएं बन रही है। इसराे की चयनित हाेने से अब देश के लिए काम करने का माैका मिलेगा। पहले से तय किया था निजी क्षेत्र में जाॅब नहीं करनी है। सरकारी क्षेत्र में सेवा देनी है। पढ़ाई के दाैरान यही साेचा कि कुछ अलग करना है, कुछ करके दिखाना है। इसलिए मैकेनिकल इंजीनियर का विषय चयन किया। अब इसराे के सेंटर पर काम करते हुए बहुत कुछ सीखने काे मिलेगा।

युवन की सफलता से परिवार में दादी कांता देवी, मम्मी संगीता जैन, भाई दिव्यांश, नानी गुणमाला जैन व नाना बदामीलाल जैन समेत परिवाराें के लाेगाें ने खुशी जताई। यह कहते हैं कि दिल्ली में पढ़ाई करने के दाैरान इसराे काे लेकर साथी दाेस्ताें से चर्चा हुई। इसराे में काम कर चुके कुछ व्यक्तियाें के बारे में सुना है। इसलिए मैंने भी इसराे में जाने का कुछ समय से मन बना लिया था। इसकी तैयारी लगातार कर रहा था।

युवन जैन मूल रूप से सागवाड़ा के रहने वाले है। फिलहाल डूंगरपुर शहर के शास्त्री काॅलाेनी में परिवार के साथ रहते थे। इनके पिता कनकमल जैन का करीब 15 साल पहले सड़क हादसे में निधन हाे गया था। युवन ने 10वीं व 12 वी केंद्रीय विद्यालय डूंगरपुर से की। इसके बाद काेटा में काेचिंग करते हुए निरमा काॅलेज से साल 2019 में मैकेनिकल इंजीनियरिंग में बी-टेक किया। इसके बाद इंजीनियरिंग सर्विसेज की तैयारी करने के लिए दिल्ली गए।

यहां पर गेट की काेचिंग करते हुए इसराें में साइंटिस्ट इंजीनियर के पद पर अायाेजित परीक्षा के लिए अावेदन कर दिया। डेढ़ साल बाद जारी परीक्षा परिणाम में देश भर के 135 लाेगाें के नाम पर जारी किए गए है। इसमें डूंगरपुर निवासी युवन जैन का नाम भी शामिल है। इसके पिता कनकमल जैन दैनिक भास्कर सागवाड़ा में एजेंट-संवाददाता रहे थे।

Spread the love

Leave a Comment