समाचार

शेर-ए-बुन्देलखण्ड को श्रद्धांजलि देने पहुंचे दिग्विजय सिंह

टीकमगढ़। 26 जून । शेर-ए-बुन्देलखण्ड स्व. श्री कपूरचंद घुवारा को श्रद्धांजलि देने पहुंचे मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मा. दिग्विजय सिंह। शुक्रवार को मा.श्री दिग्विजय सिंह जी टीकमगढ़ शहर मे श्रद्धाजंलि  अर्पित हेतु अपने सखा जो 1980 में एक साथ विधायक रहे मे स्व.श्री कपूरचंद्र जी घुवारा के निवास पर पहुंच कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि घुवारा के परिवार को अपना परिवार हमेशा मना है, यह सभी जानते स्व.श्री कपूर चन्द्र जी घुवारा आज हमारे बीच भले ही नही हैं लेकिन उन्होंने जो अपने जीवन का एक ऐसा मार्ग समाज को दिया जो सदैव अनुकरणीय रहा है। श्री सिंह ने कहा कि विधानसभा मे वह हमेशा अपनी एक अलग ही पहचान बनाने बाले विधायक थे एवं विशेष रूप से बुन्देलखण्ड के लौह-पुरूष, और शेर-ए-बुन्देलखण्ड के नाम से विख्यात श्री कपूरचंद्र जी घुवारा पूरे देश एवं विशेष रूप से बुन्देलखण्ड में राजनैतिक एवं सामाजिक क्षेत्र में प्रख्यात हैं, जो अनेकों बर्षों तक तो नंगे पैर रहकर चलते रहे है।

टीकमगढ़। 26 जून । शेर-ए-बुन्देलखण्ड स्व. श्री कपूरचंद घुवारा को श्रद्धांजलि देने पहुंचे मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मा. दिग्विजय सिंह। शुक्रवार को मा.श्री दिग्विजय सिंह जी टीकमगढ़ शहर मे श्रद्धाजंलि  अर्पित हेतु अपने सखा जो 1980 में एक साथ विधायक रहे मे स्व.श्री कपूरचंद्र जी घुवारा के निवास पर पहुंच कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि घुवारा के परिवार को अपना परिवार हमेशा मना है, यह सभी जानते स्व.श्री कपूर चन्द्र जी घुवारा आज हमारे बीच भले ही नही हैं लेकिन उन्होंने जो अपने जीवन का एक ऐसा मार्ग समाज को दिया जो सदैव अनुकरणीय रहा है। श्री सिंह ने कहा कि विधानसभा मे वह हमेशा अपनी एक अलग ही पहचान बनाने बाले विधायक थे एवं विशेष रूप से बुन्देलखण्ड के लौह-पुरूष, और शेर-ए-बुन्देलखण्ड के नाम से विख्यात श्री कपूरचंद्र जी घुवारा पूरे देश एवं विशेष रूप से बुन्देलखण्ड में राजनैतिक एवं सामाजिक क्षेत्र में प्रख्यात हैं, जो अनेकों बर्षों तक तो नंगे पैर रहकर चलते रहे है।

-डाॅ. महेन्द्रकुमार जैन ‘मनुज’,

Spread the love

Related posts

साधुओं को आहार देने से होती है अक्षय पुण्य की प्राप्ति- अंतर्मुखी मुनि पूज्य सागर

admin

नीरज जैन स्मृति व्याख्यानमाला आयोजित

admin

इच्छाओं के सफल होने की नहीं बल्कि इच्छाओं के निर्मल होने की प्रार्थना करें – आचार्यश्री अनुभवसागर जी महाराज

admin

Leave a Comment