समाचार

आस्था देखिएगा, 2500 जोड़े करेंगे सवा करोड़ से अधिक जप

गणिनी आर्यिका विज्ञाश्री माताजी का रजत दीक्षा महा महोत्सव समापन कार्यक्रम 22 से

मदनगंज किशनगढ़। गणाचार्य, राष्ट्रसंत विराग सागर महाराज की सुशिष्या भारत गौरव, गणिनी आर्यिका विज्ञाश्री माताजी के रजत दीक्षा महा महोत्सव के समापन पर 22 से 24 फरवरी तक अजमेर रोड स्थित बड़ के बालाजी में विभिन्न धार्मिक व सामाजिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। गणिनी आर्यिका विज्ञाश्री माताजी रजत दीक्षा महा महोत्सव समिति ने बताया कि सुपाश्र्व गार्डन सिटी में आयोजित तीन दिवसीय कार्यक्रम के तहत 22 फरवरी को प्रात: 11 बजे से विदुषी महिला संगोष्ठी कार्यक्रम होगा। जिसमें टूटते परिवार बिखरते रिश्ते, वर्तमान परिपेक्ष में युवाओं का दायित्व, राष्ट्र निर्माण में महिलाओं व युवाओं की भूमिका व वर्तमान परिस्थितियों में जीवन कैसे जिएं विषय पर चर्चा होगी। दोपहर 2 बजे इंद्र, इंद्राणियों की मेहंदी, हल्दी की रस्म, विनतियो व धार्मिक भक्ति नृत्य के साथ तंबोला कार्यक्रम पुलक मंच जोन 4 द्वारा प्रस्तुत किया जाएगा। 23 फरवरी को रिद्धि- सिद्धि- बुद्धि-वृद्धि प्रदायक सुख- समृद्धि- संपत्ती दायक  आधि- व्याधि-बाधा विध्वंसक  संकट निवारण कालसर्प योग निवारण सर्वकार्य सिद्धिदायक, नवग्रह एवं वास्तुदोष आदि की शांति के लिए मनोकामना प्रदायक श्री जिन सहस्त्रनाम महाकुंभ विधान पूजन का आयोजन प्रात: 9 बजे से प्रारंभ होगा। विधान पूजन में 2500 जोड़ो द्वारा 1 करोड़ 25 लाख 25 हजार 525 जप अनुष्ठान किए जाएंगे। विधान पूजन में अनेक प्रान्तों के अलावा किशनगढ से सैकड़ो श्रद्धालु भाग लेंगे, जो प्रात: 5 बजे रविन्द्र रंगमंच से बसों द्वारा बड़ के बालाजी के लिए प्रस्थान करेंगे। बसों की व्यवस्था महावीर प्रसाद, विनोद कुमार, कैलाश पाटनी उरसेवा वालो की तरफ  से की गई है। 24 फरवरी को प्रात: 9 बजे से 25 रजतमय 25 प्रतिमाओं का 25 रजत पांडुकशिला पर 25 कलशों से 25 मुख्य इन्द्रो द्वारा अभिषेक व शांतिधारा की जाएगी। दोपहर 12 बजे विनयांजलि सभा होगी। जिसमें गुरु मां गणिनी आर्यिका विज्ञाश्री माताजी की संगीत की मधुर स्वर लहरियों के साथ पूजन की जाएगी। पूजन के बाद विनयांजलि दी जाएगी। 

संजय जैन,किशनगढ़

Spread the love

Related posts

आत्महत्या कायरता, जीवन नष्ट होता है, कर्म नहीं- आचार्य अनुभवसागर महाराज

admin

पूजा पाठ के बाद की अनाथाश्रम में सामग्री वितरित

admin

जैन मुनि अन्तर्मुखी पूज्यसागर महाराज का आह्वान, पुनीत कार्य में भागीदार बनें

admin

Leave a Comment